भारत में आपराधिक आंकड़े

Crimes in India: राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) द्वारा वर्ष 2020 के लिए जारी आपराधिक आंकड़ों के अनुसार भारत में 2020 में प्रतिदिन औसतन 80 हत्याएं हुईं और कुल 29,193 लोगों की हत्या हुई। इस मामले में राज्यों की सूची में उत्तर प्रदेश पहले स्थान पर रहा।
वहीं भारत में प्रतिदिन औसतन 77 रेप के मामले दर्ज किए गए। पिछले साल दुष्कर्म के कुल 28,046 मामले दर्ज किए गए थे। देश में ऐसे सबसे अधिक मामले राजस्थान में और दूसरे नंबर पर उत्तर प्रदेश में दर्ज किए गए।

आइए एक नजर डालते हैं विभिन्न आपराधिक घटमनाओं पर

कोरोना काल में हत्या की घटनाएं-

गृह मंत्रालय के अधीन काम करने वाले एनसीआरबी के आंकड़े बताते हैं कि कोरोना महामारी से प्रभावित साल 2020 के दौरान अपराध के मामलों में 2019 की तुलना में 28 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। साल 2020 में रोज औसतन 80 हत्याएं हुईं और कुल आंकड़ा 29,193 पहुंच गया। इस मामले में राज्यों की सूची में उत्तर प्रदेश पहले नंबर पर है। यह ऐसे समय में था जब 25 मार्च 2020 से 31 मई 2020 तक कोविड-19 महामारी के कारण देश में लॉकडाउन था।

यूपी- 3,779
बिहार- 3,150
महाराष्ट्र- 2,163
मध्य प्रदेश- 2,101
पश्चिम बंगाल- 1,948
दिल्ली- 472

(आंकड़े वर्ष 2020 के)
स्रोत- NCRB

कोरोना काल में अपहरण-

2020 में अपहरण के सबसे ज्यादा 12,913 मामले उत्तर प्रदेश में दर्ज किए गए। इसके बाद पश्चिम बंगाल में अपहरण के 9309, महाराष्ट्र में 8103, बिहार में 7889, मध्य प्रदेश में 7320 मामले दर्ज किए गए। वहीं, राष्ट्रीय राजधानी में अपहरण के 4,062 मामले दर्ज किए गए हैं। एनसीआरबी ने कहा कि देश में अपहरण के 84,805 मामलों में 88,590 पीड़ित थे। इनमें अधिकतर यानी 56,591 पीड़ित बच्चे थे।

उत्तर प्रदेश- 12,913
पश्चिम बंगाल- 9,309
महाराष्ट्र- 8,103
बिहार- 7,889
मध्य प्रदेश- 7,320
दिल्ली- 4,062

(आंकड़े वर्ष 2020 के)
स्रोत- NCRB

कोरोना काल में साइबर अपराध-

भारत में 2020 में साइबर अपराध के 50,035 मामले दर्ज किए गए जो उसके पिछले वर्ष दर्ज मामलों की तुलना में 11.8 फीसदी अधिक है। साथ ही ‘सोशल मीडिया पर फर्जी सूचना’ के 578 मामले सामने आए। रिपोर्ट के अनुसार देश में साइबर अपराध की दर (प्रति एक लाख की आबादी पर घटनाएं) 2019 में 3.3 फीसदी से बढ़कर 2020 में 3.7 फीसदी हो गईं। देश में 2019 में साइबर अपराध के मामलों की संख्या 44,735 थी, जबकि 2018 में यह संख्या 27,248 थी।
2020 में ऑनलाइन बैंकिंग धोखाधड़ी के 4047 मामले, ओटीपी धोखाधड़ी के 1093 मामले, क्रेडिट/डेबिट कार्ड धोखाधड़ी के 1194 मामले जबकि एटीएम से जुड़े 2160 मामले दर्ज किए गए। इसमें बताया गया कि सोशल मीडिया पर फर्जी सूचना के 578 मामले, ऑनलाइन परेशान करने या महिलाओं एवं बच्चों को साइबर धमकी से जुड़े 972 मामले सामने आए, जबकि फर्जी प्रोफाइल के 149 और आंकड़ों की चोरी के 98 मामले सामने आए।

2020 में दर्ज साइबर अपराधों में से 60.2 फीसदी साइबर अपराध फर्जीवाड़ा (50,035 में से 30,142 मामले) से जुड़े हुए थे। यौन उत्पीड़न के 6.6 फीसदी (3293 मामले) और उगाही के 4.9 फीसदी (2440 मामले) दर्ज किए गए। साइबर अपराध के सबसे ज्यादा 11,097 मामले उत्तर प्रदेश में, 10741 कर्नाटक में, 5496 महाराष्ट्र में, 5024 तेलंगाना में और 3530 मामले असम में दर्ज किए गए। बहरहाल, अपराध की दर सबसे अधिक कर्नाटक में 16.2 फीसदी थी, जिसके बाद तेलंगाना में 13.4 फीसदी, असम में 10.1 फीसदी, उत्तर प्रदेश में 4.8 फीसदी और महाराष्ट्र में यह दर 4.4 फीसदी थी।

उत्तर प्रदेश- 11,097
कर्नाटक- 10,741
महाराष्ट्र- 5,496
तेलंगाना- 5,024
असम- 3,530

(आंकड़े वर्ष 2020 के)
स्रोत- NCRB

भारत में कुल अपराध दर-

लॉकडाउन वर्ष 2020 में दर्ज अपराधों में 28% की वृद्धि हुई, वह भी एक वर्ष में COVID-19 रोकथाम उपायों जैसे लॉकडाउन के साथ। 2019 की तुलना में 2020 में समग्र अपराध दर भारतीय दंड संहिता आईपीसी और एसएलएल दोनों अपराधों में बहुत अधिक है।

2016- 379.3
IPC Crimes- 233.6
SLL Crimes- 145.7

2017- 388.6
IPC Crimes- 237.7
SLL Crimes- 150.9

2018- 383.4
IPC Crimes- 236.7
SLL Crimes- 146.7

2019- 385.4
IPC Crimes- 241.1
SLL Crimes- 144.3

2020- 487.7
IPC Crimes- 314.3
SLL Crimes- 173.4

प्रति लाख आबादी (2016 से 2020)
स्रोत: NCRB

राज्यों में समग्र अपराध दर (आईपीसी और एसएलएल)

तमिलनाडु ने अपराध दर में सबसे अधिक वृद्धि दर्ज की, उसके बाद गुजरात का स्थान है। राष्ट्रीय स्तर पर अपराध दर में समग्र वृद्धि हुई है। तमिलनाडु के अलावा, गुजरात और केरल राज्यों में भी अपराध दर में समग्र वृद्धि हुई है।

तमिलनाडु- 1808.5
केरल- 1568.4
दिल्ली- 1309.5
गुजरात- 1011.4
हरियाणा- 658.6

अधिकतम वृद्धि दर वाले राज्य (2020 के लिए)
स्रोत: NCRB’s Crime in India Reports

राज्यों में ‘महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार’ अपराध दर में वृद्धि

राष्ट्रीय स्तर पर ‘महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार’ से संबंधित अपराध दर में गिरावट आई है। वहीं 2019 और 2020 के डेटा से पता चलता है कि कई राज्यों में ‘महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार’ से संबंधित अपराध दर में वृद्धि हुई है।

ओडिसा- 33.4
राजस्थान- 18
असम- 14.6
तेलंगाना- 13.5
केरल- 12.8
दिल्ली- 10.2

अपराध दर – महिलाओं के दुर्व्यवहार ( 2020 के लिए )

स्रोत: NCRB’s CII Reports – 2019 & 2020