September 24, 2021

पीएम मोदी का एलान- 14 अगस्त को अब मनाया जाएगा विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Social Media)

Partition Horror Memorial Day: विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लिए जान गंवाने वाले वीरों को याद करते हुए कहा कि नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों बहनों और भाइयों को विस्थापित होना पड़ा और अपनी जान तक गंवानी पड़ी।

पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस से एक दिन पहले यानी 14 अगस्त को अब विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस मनाये जाने का एलान किया। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि “देश के बंटवारे के दर्द को कभी भुलाया नहीं जा सकता। नफरत और हिंसा की वजह से हमारे लाखों बहनों और भाइयों को विस्थापित होना पड़ा और अपनी जान तक गंवानी पड़ी।’ पीएम मोदी ने अगले ट्वीट में लिखा कि यह दिन हमें भेदभाव, वैमनस्य और दुर्भावना के जहर को खत्म करने के लिए न केवल प्रेरित करेगा, बल्कि इससे एकता, सामाजिक सद्भाव और मानवीय संवेदनाएं भी मजबूत होंगी।

इसे भी पढ़ें: 15 अगस्त को देश मनाएगा अपना 75वां स्वतंत्रता दिवस, जानिए इस दिन क्या होगा ख़ास

स्वतंत्रता दिवस के भाषण के लिए PM मोदी ने लोगों से मांगे सुझाव, कहा- लाल किले से गूंजेंगे आपके विचार

पीएम मोदी ने हर साल की तरह इस साल भी 15 अगस्त के भाषण के लिए लोगों के सुझाव मांगे हैं। प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने एक ट्वीट करके इस बात की जानकारी दी। PMO ने ट्वीट में लिखा- आपके विचार लाल किले की प्राचीर से गूंजेंगे। 15 अगस्त पर पीएम मोदी की स्पीच के लिए आपके क्या सुझाव हैं? उन्हें @mygovindia पर जरूर शेयर करें।

बता दें कि इससे पहले मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ के 79वें संस्करण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनकी सरकार ने 75वें स्वतंत्रता दिवस पर ज्यादा से ज्यादा लोगों को राष्ट्रगान गाने के लिए एक पहल की शुरूआत की है। इस ट्वीट के आने के कुछ मिनटों में ही हजारों लोगों ने इस पर रिप्लाई दिया। लोगों ने पेगासस मुद्दे की जांच से लेकर पेट्रोल-डीजल और LPG के बढ़ते दामों को कम करने का सुझाव दिया। कई लोगों ने गुरुवार को पेश किए गए रिजर्वेशन मॉडल पर अपनी-अपनी राय रखी, तो कुछ लोगों ने देश का हेल्थकेयर सिस्टम सुधारने की बात कही।

25 जुलाई को अपने मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने लोगों से आग्रह किया था कि वे राष्ट्रीय गान गाने के इनिशिएटिव में भाग लें। इसके लिए Rashtragaan.in नाम से एक वेबसाइट तैयार की गई है।