नवरात्रि तीसरा दिन- मां चंद्रघंटा की कथा

शारदीय नवरात्रि का तीसरा दिन – मां चंद्रघंटा की कथा

नवरात्रि का तीसरा दिन मां चंद्रघंटा को समर्पित होता है, मां दुर्गा का तीसरा रूप बहुत शक्तिशाली माना जाता है। भक्तों के दुख हरने के साथ राक्षसों का वध करती हैं मां चंद्रघंटा।
बहुत समय पहले जब असुरों का आतंक बढ़ गया था तब उन्हें सबक सिखाने के लिए मां दुर्गा ने अपने तीसरे स्वरूप में अवतार लिया था।

दैत्यों का राजा महिषासुर राजा इंद्र का सिंहासन हड़पना चाहता था, जिसके लिए दैत्यों की सेना और देवताओं के बीच में युद्ध छिड़ गई थी। वह स्वर्ग लोक पर अपना राज कायम करना चाहता था जिसके वजह से सभी देवता परेशान थे। सभी देवता अपनी परेशानी लेकर त्रिदेवों के पास गए। त्रिदेव देवताओं की बात सुनकर क्रोधित हुए और एक हल निकाले। ब्रह्मा, विष्णु और महेश के मुख से उर्जा उत्पन्न हुई, जो देवी का रूप ले ली। इस देवी को भगवान शिव ने त्रिशूल, भगवान विष्णु ने चक्र, देवराज इंद्र ने घंटा, सूर्य देव ने तेज और तलवार, और बाकी देवताओं ने अपने अस्त्र और शस्त्र दिए। इस देवी का नाम चंद्रघंटा पड़ा। देवताओं को बचाने के लिए मां चंद्रघंटा महिषासुर के पास पहुंची। महिषासुर ने मां चंद्रघंटा को देखते हुए उन पर हमला करना शुरू कर दिया, जिसके बाद मां चंद्रघंटा ने महिषासुर का संहार कर दिया था।

मां चंद्रघंटा की पूजा करने के बाद उन्हें अक्षत, पुष्प, ‌गंध, सिंदूर और धूप अवश्य अर्पित करना चाहिए। ‌इसके साथ मां चंद्रघंटा को चमेली का पुष्प अर्पित करना चाहिए क्योंकि बहन का प्रिय फूल है। अगर आप चमेली का फूल अर्पित करने में असमर्थ हैं तो आप लाल फूल भी अर्पित कर सकते हैं। भोग के दौरान देवी चंद्रघंटा को दूध से बनी मिठाई अर्पित करें।