जानिए कौन हैं ट्विटर के नए सीईओ पराग अग्रवाल और कैसा रहा उनका यहां तक पहुंचने का सफर

Twitter New CEO Parag Agrawal: दुनियाभर में पॉपुलर माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर के नए सीईओ पराग अग्रवाल की हर तरफ चर्चाएं हो रही हैं। पराग अग्रवाल को 29 नवंबर 2021 को Twitter के नए मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) के रूप में नामित किया गया। अब पराग अग्रवाल भी सत्य नडेला (Satya Narela) और सुंदर पिचाई (Sundar Pichali)  जैसे भारतीय मूल के तकनीकी दिग्गजों की फेहरिस्त में शामिल हो गए हैं।
आइए जानते हैं कि पराग अग्रवाल कौन हैं, ‍उनकी सैलेरी कितनी है और उनका यहां तक पहुंचने का सफर कैसा रहा। साथ ही उनका व्यक्तिगत जीवन कैसा है …

व्यक्तिगत जीवन
दरअसल पराग मूल रूप से राजस्थान के अजमेर के रहने वाले हैं। उनका जन्म 21 मई 1984 को राजस्थान के अजमेर शहर के सरकारी जवाहरलाल नेहरू अस्पताल में हुआ था। पराग ने IIT बॉम्बे में कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग में बीटेक की पढ़ाई की। उसके बाद वह अमेरिका चले गए, जहां उन्होंने स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी की। इसी यूनिवर्सिटी में उनकी मुलाकात विनीता अग्रवाल से हुई, जिनसे वर्ष 2016 में उन्होंने शादी कर ली। पराग और विनीता के एक अंश नाम का बेटा भी है। विनीता अग्रवाल स्टैनफोर्ड स्कूल ऑफ मेडिसिन में फिजीशियन और असिस्टेंट क्लिनिकल प्रोफेसर के तौर पर काम कर रही हैं। इससे पहले वह एक कंपनी में प्रोडक्ट मैनेजमेंट डायरेक्टर के पद पर रहीं। पराग अग्रवाल की पत्नी ने स्टैनफोर्ड और हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई की है। वीनिता ने मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) से अपनी पीएचडी की है।
पराग ने विनीता को न्यूयॉर्क के सेंट्रल पार्क में स्थित वैग्नर कोव में शादी के लिए प्रपोज किया था। ये जगह सबसे रोमांटिग जगहों में से एक मानी जाती है। बाद में दोनों ने भारत आकर जयपुर के मशहूर आंबेर विलास में शादी की।

पराग और उनकी पत्नी विनीता अग्रवाल (social media)

अजमेर में हुआ जन्म, मुंबई से किया बीटेक
दरअसल पराग का परिवार सालों तक अजमेर के धानमंडी और खजाना गली में किराए के मकान में रहा। पराग के पिता रामगोपाल अग्रवाल मुंबई में बीएमआरसी में कार्यरत थे, लेकिन तब उनके माता-पिता यानी पराग के दादा-दादी अजमेर के धानमंडी क्षेत्र में किराए के मकान में रहते थे। तब रामगोपाल अग्रवाल की ऐसी स्थिति नहीं थी कि वे मुंबई के किसी प्राइवेट अस्पताल में पत्नी की डिलीवरी करवाएं। यही वजह रही कि अग्रवाल ने पत्नी को अपने माता-पिता के पास अजमेर भेजा और डिलीवरी के लिए जेएलएन अस्पताल में भर्ती करवाया। तब शायद किसी को पता नहीं था कि सरकारी अस्पताल में जन्म लेने वाला यह बच्चा एक दिन दुनिया की सबसे बड़ी संस्थाओं में से एक ट्विटर का सीईओ बनेगा।

25 साल तक किराए के मकान में रहा परिवार
अजमेर के खजाना गली में करीब 25 सालों तक पराग के दादाजी रामचंद्र अग्रवाल एक कमरा किराए पर लेकर रहे। उन्होंने बहुत संघर्ष कर परिवार का पालन पोषण किया। बाद में वे धानमंडी वाले मकान में किराए पर रहने लगे। कुछ समय बाद उनके पराग के पिता की जॉब लग गई तो वे मुंबई शिफ्ट हो गए। मुंबई में ही पराग को पढ़ाया-लिखाया और आज उनकी इस सफलता से पूरा देश खुश है।

10 सालों से ट्विटर में कर रहे काम
पराग की 10 साल से ट्विटर कंपनी में जॉब कर रहे हैं। उन्होंने एक विशेष सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में ट्विटर ज्वाइन किया था। ट्विटर ने उन्हें 2018 में चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर बनाया। ट्विटर से पहले पराग माइक्रोसॉफ्ट, याहू और एटीएंडटी लैब्स के साथ काम कर चुके हैं।
पराग ने जैक डोर्सी का स्थान लिया, जिन्होंने 2006 में ट्विटर की स्थापना की थी। जैक ने ट्विटर के कर्मचारियों को सार्वजनिक रूप से पोस्ट किए गए मेमो में कहा, “हमारे CEO के रूप में पराग अग्रवाल में मेरा भरोसा बहुत गहरा है”। इसी मेमो में उन्होंने पराग (Parag Agrawal) को जिज्ञासु, खोजी, तर्कसंगत, रचनात्मक, जागरुक और विनम्र व्यक्ति भी बताया। उन्होंने कहा, “वह काफी समय से मेरी पहली पसंद रहे हैं, क्योंकि वह कंपनी और इसकी जरूरतों को बेहद गहराई से समझते हैं। हर महत्वपूर्ण निर्णय के पीछे पराग का हाथ रहा है, जिसने इस कंपनी को बेहतर बनने में मदद की।”

पराग (Parag Agrawal) ने भी जैक को धन्यवाद देने के लिए ट्विटर का सहारा लिया और कहा, “मैं 10 साल पहले इस कंपनी में शामिल हुआ था, जब यहां 1,000 से भी कम कर्मचारी थे। यह दशक पहले की बात है, लेकिन ऐसा लगता है मानो ये कल ही की बात हो। मैंने आपकी जगह पर खुद को रखकर देखा है, मैंने उतार-चढ़ाव, चुनौतियों और बाधाओं, जीत और गलतियों को देखा है। लेकिन तब और अब, सबसे बढ़कर, मैं ट्विटर के अविश्वसनीय प्रभाव, हमारी निरंतर प्रगति, और हमारे आगे के रोमांचक अवसरों को देखता हूं। हम एक साथ क्या-क्या कर सकते हैं, इसकी कोई सीमा नहीं है।”

Parag Agrawal ने ट्वीट कर दिया धन्यवाद

सीईओ बनने के बाद पराग की सैलरी
ट्विटर के सीईओ बनने के बाद पराग अग्रवाल की सैलरी में इजाफा किया गया है। अग्रवाल को सालाना एक मिलियन डॉलर ( करीब 7.49 करोड़ रुपये) सैलरी दी जाएगी। इसके अलावा पराग अग्रवाल को तमाम तरह के भत्ते और बोनस भी दिए जाएंगे।

Twitter के नए CEO, Parag Agrawal के बारे में जानिए पांच बातें:
1. पराग, IIT Bombay से कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग ग्रेजुएट हैं। इसके बाद, उन्होंने स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से पीएचडी की।
2. 2006-2010 के बीच, वह बड़े पैमाने पर डेटा प्रबंधन अनुसंधान में शामिल थे।
3. उन्होंने एक दशक पहले 2011 में, Twitter से जुड़ने से पहले याहू (Yahoo), माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft) और एटीएंडटी लैब्स (AT&T Labs) जैसी कंपनियों में काम किया है।
4. पराग, एक विशिष्ट सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में Twitter से जुड़े और 2017 में मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी (CTO) के पद पर आसीन हुए।
5. उन्हें फर्म के डीसेंट्रलाइज़्ड सोशल नेटवर्किंग प्रयास, प्रोजेक्ट ब्लूस्काई का इंचार्ज भी बनाया गया था।

CEO के रूप में अपने पहले ज्ञापन में, पराग (Parag Agrawal) ने लिखा, “मैं मानता हूं कि आप में से कुछ लोग मुझे अच्छी तरह से जानते हैं, कुछ बस थोड़ा सा, और कुछ बिल्कुल नहीं। आइए एक नयी शुरुआत करें – हमारे भविष्य की ओर पहला कदम।”

Parag agrawal and Singer Shreya Ghoshal

इस खबर पर जहां कई ट्विटर यूजर्स ने पराग (Parag Agrawal) को बधाई दी, वहीं पराग की बचपन की दोस्त, गायिका श्रेया घोषाल ने भी उन्हें बधाई देते हुए ट्वीट किया।